आफत बनी मानसून की बारिश, पांच राज्यों में अब तक 465 लोगों की मौत

नई दिल्ली :

 

मानसून के इस सीजन में हो रही से बारिश से देश के पांच राज्यों में अब तक तकरीबन 465 लोग मारे जा चुके हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन नेशनल इमरजेंसी रिस्पांस सेंटर (एनईआरसी) द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में सर्वाधिक 138 लोगो मारे गए हैं, जबकि केरल में 125, पश्चिम बंगाल में 116, गुजरात में 52 और पूर्वोत्तर राज्य असम में मानसून की बारिश से आए बाढ़ में अब तक 34 लोगों ने अपनी जान गंवाई है।

 

इस साल हो रही मानसून की बारिश ने महाराष्ट्र के 26 जिलों, पश्चिम बंगाल के 22, असम के 21 और केरल एवं गुजरात के दस – दस जिलों बाढ़ जैसे परिस्थिति पैदा की। पूर्वोत्तर राज्य असम केरल और पश्चिम बंगाल परंपरागत तौर पर इस मौसम में बाढ़ की आपदा का सामना करता रहा है।

 

असम में बारिश और बाढ़ से तकरीबन सवा दस लाख लोगों की आबादी प्रभावित हुई जिसमें से तकरीबन सवा दो लाख लोग राहत शिविर पहुंचाए गए हैं। एजेंसी के मुताबिक एनडीआरएफ की बारह टीमें असम में बाढ़ प्रभावितों के राहत और बचाव कार्यों में लगाई गई हैं। एनडीआरएफ की एक टीम में 45 जवान होते हैं।

 

 

पश्चिम बंगाल के 21 जिले बारिश और बाढ़ का सामना कर रहे हैं जिससे तकरीबन डेढ़ लाख से उपर की आबादी प्रभावित हुई है। राज्य में एनडीआरएफ की आठ टुकड़ियों को तैनात किया गया है। उधर पश्चिमी राज्य गुजरात में बाढ़ ग्रस्त इलाकों से तकरीबन सोलह हजार लोगों को निकालकर उंचाई वाले स्थानों पर ले जाया गया। राज्य में राहत और बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की 11 टीमें लगाई गई हैं।

 

केरल में भी इस साल मानसून की तबाई देखने को मिली है। राज्य में बाढ़ से तकरीबन डेढ़ लाख की आबादी प्रभावित हुई। बाढ़ से तकरीबन सवा सौ लोग मारे गए जबकि नौ अब भी लापता हैं। दक्षिणी राज्य केरल में एनडीआरएफ की चार टीमें राहत और बचाव कार्य को अंजाम दे रही हैं। महाराष्ट्र में भी बारिश से बुरा हाल है। एनडीआरएफ की तीन टुकड़ी महाराष्ट्र में लोगों की मदद कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *