बाबाधाम: मंदिर से हटाया गया आर्घा, मेला अधिकारियों ने की भोलेनाथ की आराधना

एक महीने तक चले श्रावणी मेला का हुआ समापन

समापन के मौके पर महाआरती का भव्य आयोजन

श्रावणी मेले में 38 लाख कांवरियों ने किया जलाभिषेक

 

बैधनाथधाम देवघर:

श्रावणी मेले के दौरान बाबा मंदिर में लगाया गया आर्घा रविवार को पूरे विधि- विधान के साथ हटा लिया गया। इसके साथ ही अब भोलेनाथ के भक्त भगवान शंकर के स्पर्श पूजा कर सकेंगे।

मेले के निर्विरोध समाप्ति के साथ ही पूरे प्रशासनिक अमले ने भी राहत की सांस ली है। इस मौके पर दुमका और देवघर पुलिस और प्रशासन के तमाम अधिकारियों ने भी गेरुवा वस्त्र धारण के बोल बम के वेश में नज़र आये और मंदिर के प्रशासनिक भवन में विशेष पूजा अर्चना की।

आपको बता दें कि, देवघर में पूरे एक महीने तक चलने वाले श्रवणी मेले को झारखंड सरकार ने राजकीय मेला घोषित किया है। इस साल सावन के महीने में चार सोमवारी पड़ी थी। इस दौरान 38 लाख शिवभक्त कांवरिया बिहार के सुल्तानगंज से 105 किलोमीटर की यात्रा कर झारखंड के देवघर स्थित बैधनाथधाम में जलार्पण करते हैं।

 

 

देवघर में उमड़ने वाले शिवभक्तों की भीड़ को संभालना और उन्हें सुलभ दर्शन करना प्रशासन के लिए काफी मुशिकल भरा काम है। मेला संचालन में जुटे तमाम पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से लेकर कर्मचारी दिन रात लगे रहते हैं तब जाकर कही श्रद्धालुओं को सुलभ दर्शन का मौका मिल पाता है।

समापन पर महाआरती का हुआ भव्य आयोजन

श्रावणी मेला, 2018 के समापन के अवसर पर सावन पूर्णिमा की शाम देवघर वासियों समेत यहां मौजूद तमाम श्रद्धालुओं के लिए यादगार बन गई। मौका था महाआरती का। बाबाधाम के शिवगंगा घाट पर भव्य शिवगंगा महाआरती का महाआयोजन किया गया। इस दौरान 03 आचार्य एवं 21 पुरोहितों द्वारा 1,001 दीप प्रज्जवलित कर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शिवगंगा महाआरती की गयी। इस दौरान मंत्रोच्चार की गूंज और श्रद्धालुओं की श्रद्धा का अटूट संगम देखने को मिला।

 

 

हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं के साथ ही स्थानीय लोगो भी शिवगंगा के चारों ओर खड़े होकर महाआरती में शामिल हुए और शिवगंगा तट के अलौकिक दृश्य को कैमरे में कैद करते दिखे। कुल 21 पुरोहितों द्वारा महाआरती की गई। अंत में जिले के उपायुक्त श्री राहुल कुमार सिन्हा द्वारा शिवगंगा महाआरती के सफल आयोजन हेतु सभी लोगों को धन्यवाद दिया। मौके पर स्थानीय निवासी एवं राज्य के श्रम एवम नियोजन मंत्री राज पलिवार समेत कई लोग मौजूद रहे।

38 लाख से उपर कांवरियों ने किया जलाभिषेक

श्रावणी मेले के दौरान हुई आय समेत तमाम आंकड़े जिला प्रशासन ने जारी कर दिए हैं। इस साल बैधनाथ धाम स्थित ज्योतिर्लिंग पर 38 लाख 4 हज़ार 4 सौ 35 भक्तों ने जलार्पण किया जिससे बाबामन्दिर प्रबंधन बोर्ड को चढ़ावे के तौर पर कुल 4 करोड़ 13 लाख 85 हज़ार 828 रुपये की आमदनी हुई है जो अबतक की रिकॉर्ड आमदनी है। इसके अलावा 40.85 ग्राम सोना, 5 किलो 967 ग्राम चांदी के साथ ही 15 चांदी के सिक्के भी चढ़ाए गए।

इतना ही नहीं शीघ्र दर्शनम टिकट से भी मंदिर प्रंबंधन बोर्ड को 4 करोड़ 12 लाख 77 हज़ार 5 सौ रुपये प्राप्त हुए। इसके अलावा मंदिर के दान काउंटर से 89 अदद सोने के सिक्के, 2188 चांदी के सिक्के बेचे गए, परिवहन विभाग को एंट्री टैक्स के तौर पर 6 लाख 1 हज़ार 195 रुपये, राज्य कर देवघर अंचल द्वारा अर्थ दंड के रूप में 46 लाख 8 हज़ार रुपये और बिजली विभाग के द्वारा 30 लाख 94 हज़ार 376 रुपये वसूल किये गए।

देवघर से उत्तम आनंद वत्स की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *