लॉकडाउन में मजदूरों के पलायन पर केंद्र सख्त, दिल्ली के दो अधिकारी नपे, दो को कारण बताओ नोटिस

  • दिल्ली से मजदूरों के पलायन से मची अफरा-तफरी पर केंद्र की सख्त कार्रवाई
  • दिल्ली सरकार के 4 अफसरों के खिलाफ ऐक्शन, 2 बड़े अधिकारी निलंबित, 2 अन्य को नोटिस
  • दिल्ली के अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (ट्रांसपोर्ट) और प्रिंसिपल सेक्रेटरी (फाइनेंस) निलंबित
  • अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (होम ऐंड लैंड बिल्डिंग्स डिपार्टमेंट) और एसडीएम सीलमपुर को कारण बताओ नोटिस

नई दिल्ली

केंद्र सरकार ने दिल्ली में लॉकडाउन के दौरान भारी संख्या में मजदूरों के पलायन से मची अफरातफरी के मामले में सख्त कार्रवाई करत हुए दिल्ली सरकार के दो वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही दो अन्य अधिकारियों को कारण बताओं नोटिस जारी किया है।

इन अफसरों के खिलाफ यह कार्रवाई कोरोना महामारी के दौरान ड्यूटी को सही से न निभा पाने और लॉकडाउन का पालन नहीं करा पाने की वजह से की गई है। दिल्ली के अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (ट्रांसपोर्ट) और प्रिंसिपल सेक्रेटरी (फाइनेंस) को निलंबित कर दिया गया है जबकि अडिशनल चीफ सेक्रेटरी (होम एंड लैंड बिल्डिंग्स डिपार्टमेंट) और एसडीएम सीलमपुर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

माना जा रहा है कि अफसरों पर यह गाज मजदूरों का पलायन नहीं रोक पाने की वजह से ही गिरी है। केंद्र के अधिकारियों ने बताया कि पहली नजर में दिल्ली सरकार के ये अधिकारी केंद्र की तरफ से जारी लॉकडाउन के आदेश का पालन करने में नाकाम रहे हैं।

इन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि ये अधिकारी कोराना वायरस से निपटने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान पब्लिक हेल्थ और सेफ्टी को सुनिश्चित कराने में नाकाम रहे।

देश में कोरोना वायरस संक्रमण चक्र को तोड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था। इस दौरान देश के तमाम शहरों से प्रवासी मजदूर भुखमरी के डर से पैदल ही सैकड़ों किलोमीटर दूर अपने-अपने घरों के लिए कूच कर गए। दिल्ली में तो सबसे बुरा हाल रहा जहां आनंद विहार और धौला कुआं, गाजियाबाद के कौशांबी में बस पकड़ने के लिए हजारों मजदूरों की भीड़ जमा हो गई थी।

दिल्ली परिवहन निगम की बसों से इन मजदूरों को दिल्ली के विभिन्न इलाकों से निकाल कर दिल्ली की सीमाओं पर स्थित बस अड्डों पर छोड़ा गया था। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियोज की अगर मानें तो कई इलाकों में रात के अंधेरे में लाउडस्पीकर के जरिए बकायदा घोषणाओं के जरिए इन श्रमिकों को अपने डेरे छोड़ने और पलायन का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *