डिजिटल भूगतान को बढ़ावा देने के लिए नंदन नीलेकणि की अध्यक्षता में समिति गठित

मुंबई:

देश में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के मकसद से भारतीय रिजर्व बैंक ने नंदन नीलेकणि की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है। इसका मकसद डिजिटल भुगतान की मजबूती और सुरक्षा को लेकर सुझाव देना है। समिति अगले नब्बे दिनों में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

रिजर्व बैंक ने एक बयान में बताया कि इस समिति में पांच सदस्य होंगे। यह समिति देश में डिजिटलीकरण के माध्यम से वित्तीय समावेशन और डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से गठित की गई है।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए नीलेकणि ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘आरबीआई और भारत एवं भारतीयों के लिए भुगतान को पुनर्भाषित करने वाली समिति के साथ काम करने को लेकर उत्साहित हूं।’’

समिति का काम देश में डिजिटल भुगतान की मौजूदा स्थिति की समीक्षा, व्यवस्था में कमियों की पहचान और उन्हें ठीक के करने के लिए सुझाव देना होगा। साथ ही समिति डिजिटल भुगतान की सुरक्षा से जुड़े सुझाव भी देगी।

उल्लेखनीय है कि नीलेकणि ने ही आधार कार्ड जैसी योजना को अमलीजामा पहनाया है। नीलेकणि के अलावा समिति में आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर एच. आर. खान, विजया बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी किशोर सांसी, सूचना प्रौद्योगिकी और इस्पात मंत्रालय की पूर्व सचिव अरुणा शर्मा और आईआईएम अहमदाबाद में सेंटर फॉर इनोवेशन, इंक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप के मुख्य नवोन्मेष अधिकारी संजय जैन हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *