‘अल्लाह के नाम पर’ दंगल फेम ज़ायरा वसीम ने फिल्मी दुनिया से नाता तोड़ा

  • ज़ायरा वसीम ने अपनी नई जीवनशैली और अपने पेशे को अल्लाह के साथ अपने संबंध के लिए खतरा बताया 
  • जायरा ने कहा है कि वो इंडस्ट्री में अपनी मुकाम बनाने के चक्कर में अपने ईमान से भटक रही थीं

मुंबई:

आमिर खान की 2016 में आई मूवी दंगल से लाइम लाइट बटोरने वाली नवोदित स्टार ज़ायरा वसीम ने फिल्मी दुनिया को अलविदा करने का फैसला किया है।

अभिनय के क्षेत्र से खुद को अलग करने की घोषणा खुद ज़ायरा ने की। रविवार को एक लंबे फेसबुक पोस्ट के जरिए ज़ायरा ने बॉलिवुड और एक्टिंग छोड़ने की घोषणा की।

ज़ायरा वसीम अपने धर्म की वजह से एक्टिंग छोड़ने का फैसला किया है। अपने पोस्ट में वसीम ने लिखा कि वो अपने काम से खुश नहीं हैं क्योंकि उनकी मान्यताओं और धर्म में हस्तक्षेप करता है।

अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट में, कश्मीरी मूल की स्टार ने कहा कि उन्होंने महसूस किया “हालांकि मैं यहां पूरी तरह से फिट हो सकती हूं, लेकिन मैं यहां के लिए बनी नहीं हूं”। बॉलीवुड को छोड़ने के ऐलान के साथ ही जायरा ने अपने इंस्टाग्राम से उससे संबंधित सारी तस्वीरें और वीडियो को भी हटा दिया है। ये अभिनेत्री हर रोज अपने अपडेट्स सोशल मीडिया के जरिए देती रहती थीं।

अपनी पहली ही फिल्म दंगल में अपने बेहतरीन अभिनय कौशल से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, फिल्मफेयर अवार्ड सहित कई महत्वपूर्ण अवार्ड्स हासिल करने वाली ज़ायरा वसीम का यह फैसला कई मायनों में चौंकाने वाला रहा। उनकी दूसरी फिल्म सिक्रेट सुपरस्टार ने भी ठीक ठाक कमाई की थी।

जायरा ने अपने फैसले को विस्तार से समझाते हुए अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “पांच साल पहले मैंने एक फैसला लिया था जिसने मेरा जीवन पूरी तरह से हमेशा के लिए बदल दिया। जैसे ही मैंने बॉलिवुड में कदम रखा, मेरे लिए लोकप्रियता का विशाल दरवाजा खुला। मैं लोगों की आकर्षण की मुख्य केंद्र बनती चली गई। मुझे सफलता के विचार के तौर पर पेश किया गया और प्राय मुझे युवाओं के रोल मॉडल के तौर पर सामने रखा गया”। अठ्ठारह वर्षीय वसीम कहती हैं, “मैंने अपने पेशे में पांच साल पूरे किए लेकिन मैं ये स्वीकार करना चाहती हूं कि मैं अपने इस परिचय, अपने काम से सही मायनों में खुश नहीं हूं।

5 years ago I made a decision that changed my life forever. As I stepped my foot in Bollywood, it opened doors of…

Posted by Zaira Wasim on Saturday, June 29, 2019

“लंबे अर्से मुझे यह महसूस हो रहा था कि मैं दूसरों की तरह बनने का संघर्ष कर रही हूं। मैंने अब यह समझना शुरू कर दिया था कि जिन चीजों के लिए मैंने वक्त दिया, प्रयास किए, भावनाएं डालीं और नई लाइफस्टाल को पकड़ने की कोशिश की, यह मेरे लिए केवल यह अहसास कराने के लिए था कि मैं यहां यद्यपि पूरी तरह से फिट हो सकती हूं, लेकिन मैं इसके लिए बनी नहीं हूं।

ज़ायरा लिखती हैं, “इस पेशे ने मुझे ढेरा सारा प्यार, समर्थन और प्रशंसा दी लेकिन इसकी वजह से ही मैं अज्ञानता के रास्ते पर आगे बढ़ती गई, आहिस्ता आहिस्ता और अवचेतन के रास्ते मैं ‘इमान’ का रास्ता भूलने लगी थी। हालांकि मैंने लगातार इस वातावरण में काम करती रही जो लगातार मेरे इमान में हस्तक्षेप कर रहा था, यह मेरे धर्म के साथ मेरे संबंध के लिए खतरा पैदा करने लगा”।

जायरा ने लिखा कि मैं इसको अनदेखा करके भी आगे बढ़ती रही खुद को यह समझाते हुए कि मैं जो कर रही हूं वह ठीक है और इसका दुष्प्रभाव मुझ पर नहीं पड़ रहा है लेकिन मैंने अपने जीवन के सारे ‘बरकाह’ (आशीर्वाद) खो दिए। मैंने इसके लिए अपने अंदर से खूब संघर्ष किया लेकिन मैं असफल रही। यह पेशा मेरे इमान और अल्लाह के साथ मेरे संबंध के लिए लगातार खतरा पैदा करता रहा, मेरी शांति भंग करता रहा।”

वसीम की अगली रिलीज होने वाली फिल्म द स्काई इज़ पिंक है। इस फिल्म में वो प्रियांका चोपड़ा और फरहान अख्तर के साथ नजर आएंगी। अगले साल मार्च तक फिल्म की शूटिंग पूरी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *