भारतीय मूल की चार महिलाएं अमेरिका में फोर्ब्स की प्रौद्योगिकी क्षेत्र की टॉप 50 महिलाओं की सूची में

न्यूयॉर्क:

अर्थ जगत की अमेरिकी मैगजीन फोर्ब्स ने अमेरिका में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की 50 दिग्गज महिलाओं की एक सूची जारी की है। आईबीएम की मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिनी रोमेटी और नेटफ्लिक्स की कार्यकारी एनी एरोन सहित प्रौद्योगिकी क्षेत्र में भारतीय मूल की चार महिलाओं को भी इन दिग्गजों की श्रेणी में शामिल किया गया है।

सूची में सिस्को की पूर्व मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी पद्मश्री वारियर, उबर की वरिष्ठ निदेशक कोमल मंगतानी, कोंफ्लूएंट की सह-संस्थापक और मुख्य तकनीकी अधिकारी नेहा नारखेड़े, पहचान प्रबंधन कंपनी ड्राब्रिज की संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कामाक्षी शिवराम कृष्णन शामिल हैं।

फोर्ब्स ने ‘अमेरिका की 2018 में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की शीर्ष 50 महिलाओं’ की सूची में कहा कि महिलाएं भविष्य का इंतजार नहीं करती। प्रौद्योगिकी में 2018 की शीर्ष 50 महिलाओं की आरंभिक सूची में तीन पीढ़ियों का प्रतिनिधित्व दिखता है जो एक दशक से भी अधिक समय से दुनियाभर में तकनीक के क्षेत्र में आगे हैं।

वारियर ने मोटोरोला और सिस्को दोनों में अहम भूमिका निभायी। अब वह चीनी स्टार्टअप कंपनी एनआईओ की अमेरिकी प्रमुख हैं। मंगतानी, गुजरात के धर्मसिंह देसाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की पूर्व छात्र हैं और अभी उबर के कारोबारी आसूचना विभाग की प्रमुख हैं।

नारखेडे, ने पुणे विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है। वह लिंक्डइन में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थीं और उन्होंने अपाचे काफका को विकसित करने में अहम भागीदारी निभायी। उन्होंने अपने लिंक्डइन के एक सहयोगी के साथ कोंफ्लूएंट की स्थापना की जो डाटा आकलन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी है। इसके ग्राहकों में गोल्डमैन साक्स, नेटफ्लिक्स और उबर जैसी कंपनियां शामिल हैं।

वहीं शिवरामकृष्णन की कंपनी ड्राब्रिज बड़े स्तर पर कृत्रिम मेधा (आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस) और मशीन लर्निंग का उपयोग करती है, यह कई डिवाइस के लोगों की पहचान सुनिश्चित करने में सक्षम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *