अतुल की कलम से – शनि का ‘समय’ बदल रहा है!

अतुल सहाय

शनि को – ग्रह मंडल में न्यायाधीश का पद प्राप्त है। शनि , जो अब तक अस्त था – 19 जनवरी से उदय हो रहा है जो कुछ विशेष राशियों के जातकों को काफी रहत देने वाले हैं और कुछ राशियों को शुभ फल मिलने वाला है ! जानने का प्रयास करते हैं

किन-किन को फायदा होगा और किन-किन को सावधान रहने की जरूरत है

सबसे पहले जिन राशियों के लिए शनि शुभकारी होंगे

मेष… मिथुन…तुला और कुम्भ राशि के जातकों के लिए एक बार फिर बहुत राहत भरे और शुभकारी समय की शुरुआत हो रही है !

  • मेष राशि के जातकों के लिए शनि अभी उनके राशि से भाग्य भाव में है।
  • मिथुन राशि के जातकों के लिए शनि अभी राशि से सप्तम – भाव में स्थित हो कर भाग्य भाव – लग्न और गृहस्थ सुख को शुभता देगा।
  • तुला राशि के लिए – शनि अपने श्रेष्ठ पराक्रम स्थान से पंचंम भाव – नवम भाव पर दृष्टि दाल – भाग्य की वृद्धि करेगा और अनावश्यक व्यय की कमी भी करेगा।
  • कुम्भ राशि के जातकों के लिए लाभ स्थान से लग्न – पंचम भाव और स्वास्थ्य भाव पर दृष्टि डाल कुम्भ राशि के जातकों के लिए 2020 फ़रवरी तक लाभकारी रहेगा।

अब तक – “अस्त चल रहे शनि” 19 जनवरी से “शनि उदय” हो रहा है – सारे रुके हुए काम – अब स्वतः होने लगेंगे।

  • स्वास्थ्य
  • धन वृद्धि
  • सामाजिक प्रतिष्ठा
  • शैक्षणिक सफलता
  • पारिवारिक सुख
  • पदोन्नति
  • विदेश यात्रा – की दृष्टी से बहुत लाभकारी होने वाला है !

हाँ यह भी सत्य है – शनि के उदित होने के पश्चात कुछ राशियों के लिए शनि शुभ नहीं हैं – -विशेषतः उन राशि जातकों के लिए – जिनकी जन्म कुंडली में शनि स्वयं नीच का हो।

  • शत्रु राशि में हो; किसी दूसरे क्रूर, पाप या शत्रु ग्रह से दृष्ट हो
  • वृष राशि के लिए शनि अष्टम हो कर कष्टकारी हो सकता है – वैसे ही कन्या राशि के लिए भी ढैया शनि कष्टकारी फल देगा – विशेषतः यदि शनि स्वयं नीच का हो – शत्रु राशि में हो; पाप या शत्रु ग्रह से दृष्ट हो
  • मकर और वृश्चिक राशि के जातक अभी साढ़े साती के प्रभाव में हैं – चूँकि शनि – मकर का राशि स्वामी है – इस लिए इन्हें कष्ट कम होगा – और अगले ढाई वर्ष तक एक तरह से शनि से लाभ ही मिलेगा
  • हाँ वृश्चिक राशि के जातकों को सावधान रहने की आवश्यकता है !