कर्नाटक के बाद कांग्रेस को गोवा में ‘दस का दंड’

  • गोवा कांग्रेस में फूट, 15 में से 10 विधायक सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल
  • कांग्रेस 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी
  • अब उसके विधायकों की संख्या पांच रह गई है।
  • अब 40 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 27 विधायक हो गए हैं

पणजी:

गोवा में कांग्रेस के दो-तिहाई (15 में से 10) विधायकों के एक समूह का बुधवार को सत्तारूढ भाजपा में विलय हो गया। अब 40 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 27 विधायक हो गए हैं। नेता विपक्ष चन्द्रकांत कावलेकर के नेतृत्व में विधायकों का समूह बुधवार शाम विधानसभा अध्यक्ष से मिला और उन्हें कांग्रेस से नाता तोड़ने की जानकारी देते हुए एक पत्र सौंपा।

गोवा विधानसभा में विपक्ष के नेता चन्द्रकांत कावलेकर समेत कांग्रेस के दस विधायकों के साथ आए मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने ऐलान किया कि कांग्रेस विधायक दल के दो तिहाई सदस्यों के समूह का भाजपा में विलय हो गया है। दो-तिहाई संख्या… दल-बदल कानून के तहत होने वाली कार्रवाई से बचाने के लिये पर्याप्त है।

इस दौरान कावलेकर ने भाजपा में विलय का कारण बताते हुए कहा कि उन्होंने और अन्य विधायकों ने भाजपा में शामिल होने का फैसला इसलिये लिया क्योंकि विपक्ष में होने के कारण उनके निर्वाचन क्षेत्रों में होने वाले विकास कार्यों में बाधाएं आ रही थीं।

कावलेकर ने कहा, “हमने सावंत के काम का तरीका देखा है। वह राज्य के विकास के लिये काम कर रहे हैं। हमने उनसे हाथ मिलाने का फैसला किया है। विपक्ष में रहकर हमारे विकास कार्यों में बाधाएं आ रही थीं।” कावलेकर ने दावा किया कि वे बिना शर्त भाजपा में शामिल हुए हैं।

भाजपा में शामिल होने वाले विधायकों में अतानासियो मोन्सेराते, जेनिफर मोन्सेराते, फ्रांसिस सिल्वेरा, फिलिप नेरी रॉड्रिग्स, सी डियाज, विल्फ्रेड डीसा, नीलकांत हलारंकार और इसिडोर फर्नांडीज शामिल हैं।

कांग्रेस 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। अब उसके विधायकों की संख्या पांच रह गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *