असम से भाजपा के लिए अच्छी खबर : असम गण परिषद की हुई घर वापसी, मिलकर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

  • असम से भाजपा के लिए अच्छी खबर, असम गण परिषद की हुई घर वापसी
  • पूर्वोत्तर में एनडीए गठबंधन फाइनल
  • मंगलवार को पूर्वोत्तर में गठबंधन सहयोगियों के साथ भाजपा महासचिव की दिन भर चली बैठक
  • भाजपा एनपीपी,एनडीपीपी, एजीपी, बीपीएफ के साथ पूर्वोत्तर में गठबंधन की घोषणा की
  • सिक्किम में मुख्य विपक्षी दल एसकेएम एनडीए के साथ मिलकर लडेगा चुनाव
  • राममाधव का दावा 25 में 22 सीटें जीतेगी एनडीए

गौहाटी:

पिछली जनवरी में नागरिकता विधेयक के मुद्दे पर असम में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का साथ छोड़ कर बाहर जा चुके असम गण परिषद की घर वापसी हो गई। भारतीय जनता पार्टी ने घोषणा की है कि दोनों दल मिलकर लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। बीजेपी ने अपने पुराने सहयोगी को मनाने में कामयाबी हासिल करते हुए लोकसभा चुनाव साथ लड़ने का ऐलान किया है।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने अपने फेसबुक पोस्ट पर खुद इसकी जानकारी साझा की। राज्य में बीपीएफ के रुप में पार्टी को तीसरा सहयोगी बनाने में भी सफलता मिली है।

मंगलवार को दिन भर चली बैठकों के बाद भाजपा ने पूर्वोत्तर में विभिन्न राज्यों में एनडीए के सहयोगी दलों की फेहरिस्त पूरी कर ली। भाजपा, एनपीपी, एनडीपीपी, एजीपी और बीपीएफ असम, नगालैंड, मेघालय, मणिपुर और अरूणाचल प्रदेश में कांग्रेस को हराने के एनडीए के मिशन को धार देगी। सिक्किम की मुख्य विपक्षी दल एसकेएम एनडीए के साथ मिल कर चुनाव लड़ेगी। त्रिपुरा में आईपीएफटी और भाजपा मिलकर लोकसभा चुनाव में उतरेगी।

भाजपा महासचिव ने इन जानकारियों को साझा करने वाली अपने फेसबुक पोस्ट में कांग्रेस के नेतृत्व में महागठबंधन पर भी चुटकी ली। राम माधव ने अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, “जबकि विपक्ष अब भी महागठबंधन की सिर्फ बातें ही कर रहा है, पूर्वोत्तर और देश के अन्य इलाकों में हमारा गठबंधन तैयार है। आज एनडीए गठबंधन पहले से भी अधिक मजबूत है। पूर्वोत्तर में एनडीए के पास 25 में से कम से कम 22 सीटें जीतने की क्षमता है। अपनी इस क्षमता के साथ पूर्वोत्तर में एनडीए गठबंधन मोदी जी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनाने की दिशा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है”।

राम माधव ने अपने फेसबुक पोस्ट में बताया कि मंगलवार को उत्तर पूर्व के कई नेताओं के साथ लंबी बैठकों का दौर चला। उन्होंने बताया कि बीजेपी, एनपीपी, एनडीपीपी, एजीपी और बीपीएफ मिलकर असम, नगालैंड, मेघालय, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में मिलकर कांग्रेस को हराने का काम करेंगे।

It was a hectic day of parlays yesterday in the North East. Sustained negotiations at Dimapur and Guwahati with…

Posted by Ram Madhav on Tuesday, March 12, 2019

बता दे हैं कि हाल ही में असम से जुड़े नागरिकता संशोधन विधेयक पर असम गण परिषद् ने इसी साल जनवरी में खुद को एनडीए से बाहर कर लिया था। इसके बाद से ही दोनों दलों के बीच बातचीत का दौर चल रहा था. भाजपा के असम प्रभारी राम माधव ने मंगलवार को पूरे नॉर्थ ईस्ट से जुड़ी सहयोगी पार्टियों के साथ बैठक कीं, और असम गण परिषद् के साथ आने का ऐलान किया।

उन्होंने बताया, ‘चर्चा के बाद बीजेपी और एजीपी ने आने वाले लोकसभा चुनाव में असम में कांग्रेस को हराने के लिए साथ काम करने का निर्णय लिया है. असम में तीसरा पार्टनर बीपीएफ होगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *