बिहार में गर्मी का कहर: औरंगाबाद, गया, नवादा में लू से 71 लोगों की मौत

  • एक ही दिन इतनी संख्या में हुई मौत से राज्य में मचा हाहाकार
  • लू से हुई मौत का आंकड़ा सौ के पार जाने की आशंका
  • मुख्यमंत्री ने चार लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान
  • राज्य की चरमरा गई स्वास्थ्य सेवाओं का एक और नमूना

पटना:

बिहार के मगध प्रमंडल में प्रचंड गर्मी व लू से औरंगाबाद, गया और नवादा जिलों में 71 लोगों की मौत से हाहाकर मच गया। राज्य के औरंगाबाद जिले में 33, गया में 25 और नवादा में 13 लोगों की मौत से पूरे राज्य में मातम का माहौल है। औरंगाबाद के सिविल सर्जन डॉ सुरेंद्र प्रसाद ने जिले में 27 लोगों की मौत लू से होने की पुष्टि की है, जबकि बाकी लोगों की भी मौत भीषण गर्मी में बेहोश होने से हुई है। नवादा डीएम कौशल कुमार ने तीन लोगों की मौत की पुष्टि की है।

इधर, घटना की सूचना पर औरंगाबाद सदर एसडीओ डॉ प्रदीप कुमार, एसडीपीओ अनूप कुमार सदर अस्पताल पहुंचे और मौत के कारणों की जानकारी ली। गया में गर्मी की मार ऐसी कि जिले में लू ने करीब 25 लोगों को अपना ग्रास बना लिया। सिर्फ मगध मेडिकल अस्पताल में रात साढ़े 10 बजे तक लू से 25 मौत की पुष्टि हो चुकी थी। उधर, जेपीएन अस्पताल में दिनभर में लू से पीड़ित 15 मरीज आये। इनमें तीन को इलाज के बाद घर जाने के लिए छोड़ दिया। चार अभी भर्ती हैं जबकि आठ को एएनएमएमसीएच रेफर कर दिया गया।

अस्पताल अधीक्षक डॉ विजय प्रसाद कृष्ण ने बताया कि अस्पताल में दिन भर में 10 ऐसे मरीज आये जो पहले से ही मृत थे, जिन्हें प्राथमिक जांच के बाद ही छोड़ दिया गया। 15 मरीजों की इलाज के दौरान अस्पताल में मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि मरीज ऐसे आ रहे हैं कि उनके बचाव का समय ही नहीं मिल पा रहा है। अभी मरीजों के अस्पताल में पहुंचने का क्रम जारी है।

इधर, सांसद सुशील कुमार सिंह ने घटना पर सिविल सर्जन को कड़ी फटकार लगायी और स्पष्ट कहा कि सदर अस्पताल की कुव्यवस्था आम लोगों के जीवन पर भारी पड़ रही है।

मुख्यमंत्री ने जताया शोक, चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने का निर्देश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने औरंगाबाद, गया और नवादा में भीषण गर्मी एवं लू से हुई लोगों की मौत पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे आपदा की इस घड़ी में प्रभावित परिवारों के साथ हैं। मुख्यमंत्री ने तत्काल मृतकों के आश्रितों को आपदा राहत कोष से चार-चार लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने के निर्देश दिये हैं, साथ ही पूरे बिहार में इस भीषण गर्मी एवं लू के मद्देनज़र जरूरी कदम उठाने के भी निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने इससे प्रभावित लोगों के लिए शीघ्र हरसंभव चिकित्सीय सहायता की व्यवस्था करने के निर्देश दिया और उनके जल्द स्वस्थ होने के लिए ईश्वर से प्रार्थना भी की है।

उधर राज्य में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि औरंगाबाद से 30 लोगों के मौत की सूचना प्राप्त हो रही है। औरंगाबाद में एक दिन में हुई इस मौत की जांच के लिए क्षेत्रीय स्वास्थ्य निदेशक को रविवार की सुबह औरंगाबाद जाने का निर्देश दिया गया है। प्रधान सचिव ने बताया कि गर्मी शुरू होते ही सभी जिलों को अलर्ट जारी कर दिया गया है। लोगों से गर्मी से बचने और उसके बचाव की अपील भी जारी की गयी है। इसके लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से लेकर मेडिकल कॉलेजों तक दवाओं को सुनिश्चित करने का निर्देश भी दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *