उत्तर भारत में बारिश का कहर, 11 लोगों की मौत, पंजाब में ‘रेड अलर्ट’

नई दिल्ली:

लगातार बारिश से उत्तर भारत के पहाड़ी राज्यों में अचानक बाढ़ और भूस्खलन के कारण जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश एवं हरियाणा में सोमवार को कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई। पंजाब में भारी बारिश के मद्देनजर पंजाब में ‘रेड अलर्ट’ जारी किया गया है।

भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) ने पंजाब के लिये परामर्श जारी करते हुए कहा कि ब्यास नदी जल क्षेत्र में लगातार बारिश से जलस्तर बढ़ जाने के कारण पोंग बांध से अतिरिक्त पानी छोड़ा जायेगा।

पंजाब में मंगलवार को भी शैक्षणिक संस्थान बंद रखने के आदेश दिये गये हैं। जम्मू कश्मीर के डोडा और हिमाचल प्रदेश के अधिकतर स्थानों पर स्कूल बंद रहे।

भारी बारिश के चलते भूस्खलन की घटनाएं हुईं जिनके कारण बद्रीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री जाने के मार्ग बाधित हुए और चारधाम यात्रा भी प्रभावित हुई। भारी बारिश के बाद जलजमाव होने से राष्ट्रीय राजधानी में भी यातायात प्रभावित हुआ।

भारी बारिश को देखते हुए पंजाब सरकार ने जिला प्रशासनों को किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिये सतर्कता बरतने को कहा है।

कृषि विशेषज्ञों ने बताया कि पंजाब एवं हरियाणा में भारी बारिश से खरीफ फसलों को नुकसान पहुंच सकता है और खेतों में पानी भर सकता है।

हरियाणा के अंबाला में भारी बारिश के कारण घर की छत गिरने से 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी।

मौसम विभाग ने उत्तराखंड में कहीं-कहीं विशेषकर देहरादून, उत्तरकाशी, चमोली, रूद्रप्रयाग, पिथौरागढ और बागेश्वर जिलों में अगले 24 घंटों में भारी से बहुत भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है।

हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश से कुल्लू, कांगड़ा और चंबा जिले में अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गयी। कुल्लू जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राजस्थान में पिछले 24 घंटे में भारी से मध्यम स्तर की बारिश दर्ज की गयी।

जम्मू कश्मीर के डोडा जिला में भूस्खलन की चपेट में आने से तीन नाबालिग सहित एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गयी जबकि कठुआ जिला में अचानक आयी बाढ़ में फंसे 29 लोगों को बचाया गया।

डोडा और जम्मू क्षेत्र में पिछले दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘कठुआ जिला में विभिन्न बाढ़ प्रभावित इलाकों से रात भर चले अभियान में छह महिलाओं और 10 बच्चों समेत कुल 29 लोगों को बचाया गया।’’

मौसम में सुधार देखकर अधिकारियों ने सोमवार सुबह 270 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को यातायात के लिये खोल दिया।

मौसम विज्ञान विभाग ने अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश में छिटपुट जगहों पर बारिश का पूर्वानुमान जताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *