रीयल एस्टेट बाजार में घरों की मांग में छह फीसदी का इज़ाफा: रिपोर्ट

नई दिल्ली:

देश के नौ प्रमुख शहरों में जुलाई से सितंबर की अवधि के दौरान घरों की बिक्री छह प्रतिशत बढ़कर 51,142 इकाई पर पहुंच गयी। रीयल एस्टेट बाजार पर नोटबंदी, रेरा और जीएसटी के बाद बढ़ी मांग से यह वृद्धि हुई है। रियल स्टेट क्षेत्र में शोध एवं आकलन करने वाली कंपनी प्रॉपइक्विटी ने अपने सर्वेक्षण में यह बात कही है।

रीयल एस्टेट क्षेत्र में शोध एवं आकलन करने वाली कंपनी प्रॉपइक्विटी ने नौ शहरों गुड़गांव, नोएडा, मुंबई, कोलकाता, पुणे, हैदराबाद, बेंगलुरू, थाणे और चेन्नई के आंकड़ों के आधार पर रिपोर्ट तैयार की है।

कैलेंडर वर्ष की तीसरी तिमाही में नये घरों की पेशकश भी 12 प्रतिशत बढ़कर 32,870 इकाइयों पर पहुंच गयी।

प्रॉपइक्विटी के संस्थापक एवं प्रबंध निदेशक समीर जसुजा ने कहा, ‘‘पिछले एक साल में कीमतें गिरी हैं और अब रीयल्टी बाजार में सुधार होने लगा है। त्योहारी मौसम के मद्देनजर डेवलपर छूट, वित्तीय योजना तथा उपहार आदि के जरिये बिक्री बढ़ाने की कोशिश करेंगे।’’

रिपोर्ट के अनुसार इन नौ शहरों में इस दौरान नहीं बिक पाये घरों की संख्या में आठ प्रतिशत की गिरावट आयी हैं और इनकी संख्या घटकर 6,17,456 इकाई रह गई।

अलग अलग शहरों की यदि बात की जाये तो बेंगलूरू में मकानों की बिक्री 14 प्रतिशत बढ़कर 8,916 इकाई पर पहुंच गई। मुंबई में आवास बिक्री 20 प्रतिशत बढ़कर 5,736 इकाई और पुणे में 17 प्रतिशत बढ़कर 11,720 इकाई रही।

दिल्ली-एनसीआर, नौएडा में 34 प्रतिशत उछाल के साथ बिके मकानों की संख्या 920 तक पहुंच गई जबकि गुड़गांव में इसमें 41 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई और यह संख्या 1,992 इकाई रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *