साई में बीते तीन साल में खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न के कुल 23 मामलों की शिकायत की

नई दिल्ली:

पिछले तीन साल और चालू वर्ष के दौरान भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) में यौन उत्पीड़न के कुल 23 मामलों की शिकायत की गई। युवा कार्यक्रम और खेल राज्य मंत्री किरेन रीजीजू ने राज्यसभा को सोमवार को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी।

रीजीजू ने बताया कि खिलाड़ियों ने पिछले तीन साल और चालू वर्ष के दौरान साई में प्रशिक्षकों और अधिकारियों के खिलाफ में यौन उत्पीड़न के कुल 23 मामलों की शिकायत की। रीजीजू ने बताया कि ऐसे मामलो में दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

उन्होंने बताया कि साई ने तीन अधिकारियों की सेवा समाप्त कर दी। एक अधिकारी को मामूली दण्ड भी लगाया गया। दो अधिकारियों के खिलाफ आरोप साबित नहीं हुए तथा शिकायतकर्ताओं ने चार शिकायतें वापस ले लीं। रीजीजू ने बताया कि शेष 13 मामलों में मौजूदा नियम के अनुसार काफी आगे तक जांच की जा चुकी है।

उन्होंने बताया कि साई के अंतर्गत आने वाले सभी प्रशिक्षण केंद्रों में उनकी अपनी आतंरिक शिकायत समितियां या वैकल्पिक मंच हैं जहां महिलाएं ऐसे मामलों में संपर्क कर सकती हैं। रीजीजू ने बताया कि साई ने यौन उत्पीड़न के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए कई कदम उठाए हैं।

एक अन्य सवाल के लिखित जवाब में रीजीजू ने बताया कि युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय ने यौन उत्पीड़न की रोकथाम के लिए एक समिति गठित की है।

उन्होंने बताया कि मंत्रालय में यौन उत्पीड़न का कोई मामला नहीं है लेकिन उसके अंतर्गत आने वाले संगठनों … राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस), नेहरू युवा केंद्र संगठन (एनवाईकेएस), राजीव गांधी राष्ट्रीय युवा विकास संस्थान (आरजीएनआईवाईडी), साई और लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान (एलएनआईपीई) में यौन उत्पीड़न के कुल 41 मामले सामने आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *