आक्रमण काल के कलंक को मिटाने के लिए यह सांस्कृतिक आजादी की लड़ाई का वक्त है : विहिप

  • अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर बनाने के लिए संसद में कानून बनाये सरकार- चम्पत राय

  • 9 दिसम्बर को रामलीला मैदान में होने वाली विराट धर्मसभा हेतु विहिप ने किया भूमि पूजन

नई दिल्ली:

विश्व हिन्दू परिषद ने कहा है कि हिन्दुस्तान में मौजुद आक्रमण काल के कलंक को एक एक कर समाप्त करने के लिए सांस्कृतिक आजादी की लड़ाई का यह वक्त है। अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान में 9 दिसंबर को प्रस्तावित विशाल धर्मसभा से पहले सभास्थल पर बुधवार को कराए गए भूमिपूजन के उपरांत पत्रकारों से बात करते हुए विश्व हिन्दु परिषद के अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा कि सारे हिन्दुस्तान व दुनिया की इस धारणा को तोड़ने के लिए यह सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है कि श्रीराम मंदिर आंदोलन का विषय निष्प्राण व अप्रसांगिक हो गया है।

चम्पत राय ने कहा कि 9 दिसम्बर को दिल्ली के रामलीला मैदान में विशाल सम्मेलन हो रहा है। उन्होंने कहा, “यह सम्मेलन अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्म भूमि पर भव्य राममंदिर बनाने की मांग को लेकर किया जा रहा है। इस सम्मेलन के द्वारा सरकार से पुरजोर मांग की जायेगी कि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए सरकार सारी बाधायें दूर करे। सरकार अयोध्या में जन्मस्थान पर भव्य श्रीराम मंदिर बनाने के लिए संसद में कानून प्रस्तुत करे”।

 

 

 

चम्पत राय ने कहा कि सारे हिंदुस्तान व दुनिया की इस धारणा को तोड़ने के लिए यह सम्मेलन हो रहा है कि यह विषय निष्प्राण व अप्रसांगिक हो गया है। इस सम्मेलन के जरिए ऐसे लोगों की भ्रांतियों को दूर किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सारे हिंदू समाज की प्राथमिकतायें क्या है इसका दर्शन कराने के लिए यह सम्मेलन हो रहा है। आज की युवा पीढी अपने सांस्कृतिक सम्मान व अपने देश के गौरव से जुडे। जैसे पुरानी पीढियों ने गुलामी से मुक्त पाने के लिए लम्बे समय तक कष्ट सह कर भी इन कलंकों से मुक्ति पायी। आक्रमण काल के कलंक जो हिंदुस्तान में मौजूद हैं एक एक कर उनको समाप्त करने के लिए सांस्कृतिक आजादी की लडाई छेडी हुई है।

चंपत राय ने कहा, “देश को सांस्कृतिक गुलामी से मुक्ति के लिए वर्तमान पीढी ने दिल्ली के इंडिया गेट चैक से जार्ज पंचम की मूर्ति हटायी । जहां जहां विक्टोरिया की मूर्ति थी वे सभी हटायी गयी। सोमनाथ के मंदिर का पुनर्निमाण कराया गया। पार्क अस्पताल, सडक व शहर के नाम बदले गये। यह अभियान पीढी दर पीढी जारी है। वर्तमान पीढी अपने आर्थिक, उत्थान के लिए प्रयासरत है। उतना ही दर्द देश व समाज के लिए आज की पीढी में है यह दिखाने के लिए यह सभा हो रही है। आज की पीढी उतनी ही नहीं अपितु उससे अधिक जागरूक व संवेदनशील है। यह विषय हिंन्दुस्तान की प्राथमिकता का विषय है। इन तीनों का उतर यह समाज 9 तारीख को संसार को देने वाला है।

चम्पत राय ने जोर देकर कहा कि इसके निमित आज हमने मां भारती की पूजा की। यह धरती हमारे लिए मिट्टी नहीं है। यह भगवती का स्वरूप है। जीवित है जागृत है। ये दुर्गा है ये कमला है, यही सरस्वती भी है। तीनों देवियों के रूप में यह भारत माता है। इस भारत माता का आशीर्वाद मिले, कृपा मिले, इसके लिए हमने आज पूजन किया।

भूमि पूजन के अवसर पर राघवानन्द जी महाराज, महन्त नवल किशोर जी, महन्त अनुभूतानन्द जी महाराज, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सहसरकारवाह डा कृष्ण गोपाल जी, विहिप के अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चम्पत राय जी, संरक्षक विहिप दिनेश चंद्र ,कुलभूषण जी प्रांत संघचालक आर.एस.एस, राजेन्द्र पंकज जी केन्द्रीय मंत्री विहिप, दयानन्द जी सह प्रांत कारवाह आर.एस.एस, करूणा प्रकाश जी क्षेत्रीय संगठन मंत्री विहिप, अशोक तिवारी केन्द्रीय मंत्री विहिप, विजय शंकर तिवारी सह मंत्री व प्रवक्ता विहिप, बचन सिंह जी प्रांत मंत्री दिल्ली, उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *