जगन्नाथ मिश्र पंचतत्व में विलीन, बिहार पुलिस की हुई फजीहत

सुपौल/पटना:

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र की बुधवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि कर दी गई। मिश्र के बड़े पुत्र संजीव मिश्र ने वैदिक मंत्रोच्चार और जवानों की सलामी के बीच उन्हें मुखाग्नि दी।

अंत्योष्टि कार्यक्रम में हालांकि बिहार पुलिस की जम कर किरकिरी हुई। दिवंगत नेता को गार्ड ऑफ ऑनर दिए जाने के क्रम में बिहार पुलिस को उस वक्त फजीहत का सामना करना पड़ा जब 22 राइफलों से एक भी गोली नहीं निकल सकी। पूर्व मुख्यमंत्री मिश्र की अंत्येष्टि सुपौल जिले के वीरपुर अनुमण्डल अंतर्गत बलुआ बाजार में की गई।

"जब शर्मिंदा हुई #बिहारपुलिस"बिहार की राइफ़ल हुई फेल: बिहार पुलिस की 22 बंदूक में से एक भी गोली नहीं चल पाई।मौका था पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा को अंत्येष्टि से पहले गार्ड ऑफ ऑनर देने का।

Posted by News Chrome on Wednesday, August 21, 2019

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त जानकारी के मुताबिक गार्ड ऑफ ऑनर के दौरान पुलिस की एक भी राइफल नहीं चलने के मामले में सुपौल के पुलिस अधीक्षक मृत्युंजय चौधरी द्वारा लापरवाही बरतने पर उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है।

बिहार पुलिस सैन्य बल के महानिदेशक से इसकी जांच कराए जाने पर यह बात सामने आयी है कि राजकीय सम्मान के साथ मिश्र की अंत्येष्टि के समय गार्ड ऑफ ऑनर देने में इस्तेमाल किये जाने वाले उक्त कारतूस (ब्लैंक कार्टज) जो कि केवल धमाके के लिए इस्तेमाल होते हैं, जिला पुलिस द्वारा उपलब्ध कराये गये थे।

मिश्र के अंतिम संस्कार के समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने बलुआ बाजार पहुंचकर उनके पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन किये। उन्होंने पुष्प-चक्र अर्पित कर उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *