झारखंड: मॉब लिंचिंग आरोपियों पर चलेगा गैरइरादतन हत्या का केस, आरोपियों से धारा 302 हटाई गई

सरायकेला-खरसावां:

झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले में कथित मॉब लिंचिंग की घटना में मारे गए तबरेज अंसारी के मामले में सरायकेला पुलिस ने आरोपियों के उपर से हत्या की धारा हटा दी है। पुलिस ने कोर्ट को अपनी चार्जशीट सौंपते हुए कहा है कि, तबरेज अंसारी की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुआ था। कोर्ट में दाखिल किए आरोप पत्र में आरोपियों पर हत्या की धारा 302 को हटा कर गैरइरादतन हत्या का मामला दिखाया गया है।

झारखंड पुलिस ने सरायकेला-खरसावां में तबरेज अंसारी की कथित मॉब लिंचिंग (भीड हत्या) मामले में 11 आरोपियों के खिलाफ हत्या का आरोप हटा दिया है। कुछ महीने पहले चोरी के आरोपों को लेकर तबरेज को एक खंभे से बांध कर लोहे की सरिया से उसकी पिटाई करने का वीडियो सोशल मीडिया पर आया था। टीवी चैनलों ने भी घटना का वीडियो प्रसारित किया था।

सरायकेला-खरसावां जिला पुलिस ने मामले में नामजद 13 आरोपियों में 11 के खिलाफ 29 जुलाई को आरोपपत्र दाखिल किया। साथ ही, हत्या के आरोप (आईपीसी की धारा 302) को धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) में तब्दील कर दिया। इस तरह, इन आरोपियों को अब अपेक्षाकृत हल्के आरोप का सामना करना पड़ेगा।

सरायकेला खरसावां जिला के पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस ने न्यूजक्रोम को बताया, ‘‘पोस्टमार्टम और फॉरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर 11 आरोपियों के खिलाफ हत्या का आरोप हटा दिया गया है। इन रिपोर्ट में कहा गया है कि 24 वर्षीय अंसारी की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई।’’उन्होंने कहा, ‘‘पोस्टमार्टम एवं मेडिकल रिपोर्ट हत्या के आरोपों का समर्थन नहीं करते हैं। उनमें कहा गया है कि उसकी (अंसारी की) मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई।’’

#झारखंड : #सराईकेला_खरसावां#मॉबलिंचिंगमामलासभी आरोपियों पर चलेगा गैर इरादतन हत्या का मामला, पुलिस ने आरोपियों से मर्डर की धारा हटाई।#बाइट : कार्तिक एस, पुलिस अधीक्षक, सराईकेला#रिपोर्ट : उत्तम आनंद वत्स

Posted by News Chrome on Tuesday, September 10, 2019

पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘हमें संदेह था और हमने फॉरेंसिक एवं पैथोलॉजी मामलों में उच्चतर स्तर के विशेषज्ञों की भी राय ली तथा उन्होंने भी यही राय दी। इसलिए, हमें उन्हें आईपीसी की धारा 302 के बजाय 304 के तहत आरोपित करना पड़ा।

पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि तबरेज अंसारी की घटनास्थल पर मौत नहीं हुई है। इसके अलावा धातकीडीह गांव के लोगों का कोई ऐसा इरादा पहले से नहीं था कि तबरेज अंसारी को मार डालना है। वह सिर्फ चोरी करते पकड़ा गया था इसलिए उसकी पिटाई की गई थी। पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि तबरेज की मौत दिल का दौरा पड़ने के कारण हुई थी। क्योंकि उसके सिर में जो चोट लगी थी, उससे ज्यादा ब्लड नहीं निकला था, जिससे मौत हो सके।

सरायकेला-खरसावां जिले के धातकीडीह गांव में यह घटना घटी थी। 18 जून को तबरेज अंसारी को लोगों ने बाइक चोरी करते हुए पकड़ा था। इसके बाद भीड़ ने उसे बिजली के पोल से बांधकर पीटा था। इसके बाद इलाज के दौरान 22 जून को उसकी मौत हो गई थी।

यह मामला पूरे देश की चर्चित घटना बनी थी। इस घटना के बाद वहां के एसपी चंदन सिन्हा को हटाकर कार्तिक एस को सरायकेला-खरसावां जिले का एसपी बनाया गया था। इस मामले को संसद में जोर-शोर से उठाया गया था, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी सफाई देनी पड़ी थी।

तबरेज अंसारी सरायकेला-खरसावां जिले के ही कदमडीहा गांव का ही रहने वाला था। उसकी मौत के बाद तबरेज अंसारी की पत्नी के बयान पर 11 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दायर किया गया था और सबको जेल भेजा गया था।

उत्तम आनंद वत्स की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *