‘मिशन गंगे’ की अगुआई करेंगी बछेंद्री पाल

  • बछेंद्री पाल की अगुआई में हरिद्वार से शुरू होगा ‘मिशन गंगे’ अभियान

  • गंगा नदी की साफ सफाई को लेकर जागरूकता का अभियान

  • हरिद्वार से पटना तक की दूरी राफ्टिंग के जरिए तय की जाएगी

  • टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन की पहल

नई दिल्ली:

माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली भारत की पहली महिला पर्वतारोही बछेंद्री पाल की अगुआई में हरिद्वार से ‘मिशन गंगे’ अभियान शुरू होगा जिसमें गंगा नदी की साफ-सफाई को लेकर जागरूकता फैलाने पर जोर दिया जाएगा।

पद्म श्री और अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित बछेंद्री की अगुआई में यह अभियान हरिद्वार में पांच अक्तूबर को शुरू होगा और पटना में 30 अक्तूबर को संपन्न होगा।

इस अभियान में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले आठ पर्वतारोही सहित 40 लोग हिस्सा ले रहे हैं जिसमें 20 महिला और 20 पुरुष शामिल हैं।

इस अभियान के तहत 27 दिन में हरिद्वार से पटना की 1500 किमी की दूरी राफ्टिंग के जरिए तय की जाएगी। इस दल के इस अभियान के लिए पांच राफ्ट मिली हैं। यह अभियान हरिद्वार (पांच से सात अक्टूबर) से शुरू होगा और फिर कानपुर (15 से 17 अक्टूबर), इलाहबाद (19 से 21 अक्तूबर) और वाराणसी (23 से 25 अक्तूबर) से होता हुआ पटना (29 से 30 अगस्त) में संपन्न होगा।

बछेंद्री के अलावा सात महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटियों को फतह करने वाली पहली भारतीय महिला और पद्म श्री से सम्मानित प्रेमलता अग्रवाल भी इस अभियान का हिस्सा होंगी।

यह 40 सदस्यीय टीम विभिन्न शहरों में अपने अभियान के दौरान स्कूली छात्रों और स्थानीय लोगों से मिलेगी और स्वच्छता कार्यक्रम चलाने के अलावा लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक भी करेगी। इस अभियान में स्थानीय प्रशासन और गैर सरकारी संस्थाएं भी इस दल की मदद करेंगी।

बछेंद्री ने बुधवार को यहां इस अभियान के संदर्भ में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारा यह अभियान भारत सरकार के नमामी गंगे मिशन से प्रेरित है। हमारा पूरा ध्यान इस दौरान साफ-सफाई और लोगों को इसे लेकर जागरूक करने पर होगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अपने दल के सभी सदस्यों से कह दिया है कि हमें पूरा जोर लगाना होगा। यह कोई पिकनिक नहीं है और ना ही हम छुट्टियां मनाने जा रहे हैं। हम सभी को इस अभियान की सफलता के लिए अपना ध्यान केंद्रित रखना होगा और हम सभी इसके लिए तैयार हैं।’’

यह अभियान टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन की पहल है जिसकी प्रमुख बछेंद्री हैं। इस अभियान को गंगा की सफाई के लिए राष्ट्रीय मिशन (एनएमसीजी) का समर्थन हासिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *