खेती के लिए क्रांतिकारी होगा नैनो फर्टिलाइजर: इफको

प्रयागराज:

उर्वरक क्षेत्र में सहकारिता की दिग्गज कंपनी इफको के प्रबंध निदेशक डाक्टर यू.एस. अवस्थी ने बुधवार को कहा कि कंपनी का नैनो फर्टिलाइजर खेती में क्रांति लेकर आएगा। इस तकनीक के बारे में विस्तार से बताते हुए श्री अवस्थी ने कहा कि यह पेटेंटशुदा होगा और दो ग्राम नैनो फर्टिलाइजर 100 किलोग्राम यूरिया के बराबर काम करेगा।

इफको की फूलपुर इकाई में संवाददाताओं से बातचीत में अवस्थी ने कहा, “किसान की उत्पादन लागत के लिहाज से यह क्रांतिकारी कदम होगा। साथ ही यह मिट्टी के असंतुलन में भी कमी लाएगा। इसके पेटेंट के लिए आवेदन किया गया है और दो साल में इसका पेटेंट मिलने की संभावना है।”

उन्होंने बताया कि प्रयोग के तौर पर एक जगह पर 100 प्रतिशत नैनो फर्टिलाइजर का उपयोग किया, जबकि दूसरी जगह 25 प्रतिशत यूरिया डाला गया और 75 प्रतिशन नैनो फर्टिलाइजर डाला गया और दोनों ही जगह उपज में कोई कमी नहीं आई। उल्लेखनीय है कि इफको ने गुजरात के कलोल संयंत्र में नैनो फर्टिलाइजर के लिए एक प्रयोगशाला स्थापित की है।

इफको की अन्य गतिविधियों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि इफको ने देशभर में नीम के 45 लाख पेड़ लगाए हैं और फारेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट आफ इंडिया से अनुसंधान करा रहे हैं जिससे नीम का पेड़ पांच साल में खड़ा हो जाए। अभी नीम का पेड़ तैयार होने में 10 वर्ष लगते हैं।

इसके साथ ही सिक्किम सरकार के साथ मिलकर इफको एक संयंत्र भी लगा रहा है जहां जैविक उत्पादों को प्रसंस्कृत कर बेचा जाएगा। सब्जियों को लंबे समय तक सुरक्षित बनाए रखने के लिए स्पैनिश तकनीक की मदद से पंजाब सरकार और इफको मिलकर एक संयंत्र भी लगा रहा है जहां सब्जियों को फ्रीज करके लंबे समय तक सुरक्षित रखा जाएगा और उसका निर्यात किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *