आस्था का महापर्व कुंभ: 24 करोड़ श्रद्धालुओं ने पवित्र त्रिवेणी में लगाई डुबकी

  • महाशिवरात्री पर हुए अंतिम स्नान पर्व में एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी
  • पुरे कुम्भ के दौरान तकरीबन 24 करोड़ श्रद्धालुओं ने पवित्र त्रिवेणी में  किया स्नान
  • मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ औपचारिक समापन की करेंगे घोषणा

प्रयागराज:

मेला प्रशासन के अनुमान को काफी पीछे छोड़ते हुए महाशिवरात्रि पर सोमवार को कुम्भ मेले में एक करोड़ से अधिक लोगों ने संगम में डुबकी लगाई। इससे पहले मेला प्रशासन ने 50-60 लाख श्रद्धालुओँ के गंगा जी में स्नान करने की संभावना जताई थी। इसके साथ ही प्रयागराज में पुरे एक महीने तक चले अब तक कुम्भ मेले में 24 करोड़ से अधिक लोग स्नान कर चुके हैं।

सूचना विभाग ने मेलाधिकारी विजय किरण आनंद का हवाला देते हुए बताया कि सोमवार को महाशिवरात्रि पर्व पर शाम 6 बजे तक 1.15 करोड़ लोगों ने गंगा और संगम में स्नान किया। 15 जनवरी से तीन मार्च तक कुम्भ मेले में स्नान करने वाले लोगों की संख्या 22 करोड़ 95 लाख रही। इस तरह से अंतिम स्नान पर्व महाशिवरात्रि तक यह संख्या 24 करोड़ से अधिक पहुंच गई।

रविवार को कुम्भ मेलाधिकारी विजय किरण आनंद ने कहा था कि मेले के अंतिम स्नान पर्व महाशिवरात्रि पर मेला प्रशासन संगम क्षेत्र पर खास ध्यान दे रहा है क्योंकि महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ने से ज्यादा से ज्यादा लोग संगम की ओर आएंगे।

मेला डीआईजी केपी सिंह के बताया, महाशिवरात्रि का मुहूर्त सोमवार की रात्रि एक बजकर 26 मिनट पर लगा और इसे देखते हुए श्रद्धालुओं ने तड़के सुबह से ही स्नान करना आरंभ कर दिया। महाशिवरात्रि पर मेला प्रशासन ने शिव मंदिरों में भीड़ नियंत्रित करने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए। हालांकि मंदिरों में लोगों का भारी रेला लगा है। महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक भी किया जा रहा है। इस बार खास संयोग बना है कि महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ी है।

उन्होंने बताया कि रविवार की शाम तेज बारिश होने से नगर में ठंड बढ़ गई। इसके बावजूद मेले में आने वाले लोगों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई है और कल से ही भारी संख्या में श्रद्धालुओं का आना जारी है।

महाशिवरात्रि के स्नान के साथ ही कुम्भ मेला समाप्त हो जाएगा और मंगलवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कुम्भ नगरी में इसकी औपचारिक घोषणा करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *