पुलवामा हमले पर सिद्धू ने किया पाकिस्तान का बचाव,सोशल मीडिया पर उठा तूफान

चंडीगढ़:

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में भारतीय सुरक्षाबलों पर हुए भीषण आत्मघाती हमले पर नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान को लेकर लचीले रूख ने एक बार फिर सोशल मीडिया पर तूफान ला दिया है। सिद्धू ने अपने बयान में पाकिस्तान का बचाव करते हुए पूछा कि क्या कुछ लोगों कि करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है ?

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के हमले की कड़ी पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कड़ी निंदा तो की लेकिन अपने बयान में पाकिस्तान को लेकर मुलायम रूख कर का इजहार कर सोशल मीडिया पर माहौल गरम कर दिया है। ट्वीटर पर लोग सिद्धू और कपिल शर्मा के लोकप्रिय शो द कपिल शर्मा शो पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ‘‘कायरतापूर्ण’’ हमले की कड़ी निंदा करते हुए पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को पूछा कि क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है?

जम्मू कश्मीर में सबसे घातक आतंकवादी हमलों में से एक में बृहस्पतिवार को सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए। पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने 100 किलोग्राम विस्फोटक से लदे एक वाहन से पुलवामा जिले में सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद पर इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने वाले क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने कहा, ‘‘कुछ लोगों के लिए क्या आप पूरे देश को जिम्मेदार ठहरा सकते है और क्या आप किसी व्यक्ति को जिम्मेदार ठहरा सकते हो?’’

आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ जवानों की मौत के प्रति एकजुटता दिखाते हुए पंजाब विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद सिद्धू ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘यह कायरतापूर्ण कार्रवाई है और मैं सख्ती से इसकी निंदा करता हूं। हिंसा हमेशा निंदनीय है और जिन लोगों ने यह किया उन्हें सजा मिलनी चाहिए।’’

सिद्धू के इसी बयान ने सोशल मीडिया पर एक बार फिर तुफान खड़ा कर दिया है। सिद्धू, पाकिस्तान और विवाद नया नहीं है। इससे पहले भी पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा के गले लगने के मुद्दे पर सिद्धू की खासी किरकिरी हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *