500 करोड़ रुपया जुर्माना