कांग्रेस के लिए चुनाव जीतना दूर की बात, पार्टी का भविष्य भी अधर में – सलमान खुर्शीद

नई दिल्ली:

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में भले ही लड़ाई बीजेपी बनाम कांग्रेस हो लेकिन एक लड़ाई कांग्रेस के भीतर भी है। चुनावी मौसम में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में बागी होने की होड़ लगी है।

ताजा मामला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद से जुड़ा है। पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने अपनी ही पार्टी की आलोचना करते हुए बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की जो स्थिति है, उसमें महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव जीतने की संभावना नहीं है। पार्टी संघर्ष के दौर से गुजर रही है और अपना भविष्य तक तय नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि हमारी सबसे बड़ी समस्या यही है कि हमारे नेता(राहुल गांधी) हमें छोड़ कर चले गए।

एक न्यूज एजेंसी से बातचीत में पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद ने पार्टी की स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी के इस्तीफे से संकट बढ़ा है। उनके इस फैसले के कारण पार्टी हार के बाद जरूरी आत्मनिरीक्षण भी नहीं कर पायी। हम विश्लेषण के लिए भी एकजुट नहीं हो सके कि हम लोकसभा चुनाव में क्यों हारे।

खुर्शीद ने कहा कि पार्टी संघर्ष के ऐसे दौर से गुजर रही है, जिसमें हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में पार्टी के जीतने की संभावना ही नहीं है। कांग्रेस पार्टी की हालत ऐसे स्तर पर पहुंच गई है कि न केवल आगामी विधानसभा चुनावों में बल्कि यह अपना भविष्य तक नहीं तय कर सकती है।

‘जल्दबाजी में पद छोड़ गए राहुल’

खुर्शीद ने कहा कि वह पार्टी प्रमुख की अस्थाई व्यवस्था से खुश नहीं हैं। राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम प्रमुख बनाया गया है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद राहुल गांधी जल्दबाजी में पार्टी अध्यक्ष का पद छोड़ गए।

सलमान खुर्शीद ने कहा कि हम वास्तव में एकजुट होकर विश्लेषण नहीं कर पाए हैं कि हमारी हार क्यों हुई है। हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे नेता दूर चले गए हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी पर अब भी पार्टी की निष्ठा है। उनके जाने के बाद यह एक तरह का खालीपन है।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस 542 में से मात्र 52 सीटों पर जीत दर्ज कर सकी थी। जिसके बाद राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उनकी जगह अगस्त में सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष चुना गया। पार्टी की मुश्किलें तब और बढ़ गई जब कई दिग्गज नेताओं ने पार्टी को अलविदा कह दिया।

हाल के दिनों में हरियाणा और महाराष्ट्र में कई बड़े नेता कांग्रेस छोड़ चुके हैं। 21 सितंबर को चुनाव की घोषणा के बाद हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। महाराष्ट्र में संजय निरुपम ने चुनाव कार्यक्रमों से खुद को अलग कर लिया। दोनों ही राज्यों में 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *